#IndependenceDayIndia: लालकिले के प्रचीर से पीएम मोदी ने दिखाई वर्तमान व नए भारत की तस्वीर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद अपने भाषण में कही ये खास बातें...

0

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले पर तिरंगा फहराया और देश को संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी लाल किले पर लगातार पांच बार लाल किले पर तिरंगा पहरा कर राजीव गांधाी और नरसिम्हा राव की बराबर आ गए हैं। बता दें कि लाल किले सबसे ज्यादा तिरंगा फहराने वालों में जवाहर लाल नेहरू (17), इंदिरा गांधी (16), मनमोहन सिंह (10) और अटल बिहारी बाजपेयी (6) के नाम प्रमुख हैं। जहां तक मौजूदा प्रधानमंत्री मोदी की बात है, तो जिस तरह से लोगों में उनका जादू है, उससे यह कहा जा सकता है कि आने वाले समय में वो मनमोहन सिंह की बराबरी भी कर लेंगे और अटल बिहारी बाजपेयी को पीछे छोड़ देंगे। इसमें कोई दोराय नहीं कि एक ओर जहां देश आजादी की 72वीं वर्षगांठ मना रहा है, वहीं देशभर में लाल किले के प्राचीर से मोदी के भाषण को लेकर चर्चा हो रही है। हर कोई अपनी राय व्यक्त कर रहा है। कोई अच्छा बता रहा है, तो कोई खराब, लेकिन खराब कहने वालों को संख्या न के बराबर है। ऐसे में कहा जा सकता है कि मोदी ने अपने भाषण से लोगों को प्रभावित किया है। यहां हम जानेंगे कि मोदी के भाषण की वो खास  बातें, जो चर्चा का विषय बनी हुई हैं।

1. बेटियों को सराहा…

मोदी ने यहां लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने के बाद अपने भाषण में कहा, “भारतीय नौसेना की छह महिला अधिकारियों ने हाल ही में आईएनएसवी तारिणी से दुनिया का भ्रमण किया, यह गर्व के साथ स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने का एक और कारण है।” महिलाओं को सलाम करते हुए मोदी ने कहा, “हमारी बेटियों ने सभी सात समुद्र पार कर लिए हैं और दुनिया को तिरंगे के रंग में रंग दिया है।”

2. कश्मीर में गोली नहीं चलाएंगे, गले लगाएंगे…

जम्मू एवं कश्मीर पर पिछले साल कहे अपने शब्दों को दोहराते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कश्मीर की समस्याओं को केवल वहां के लोगों को गले लगाकर ही हल किया जा सकता है गोलियों या दुव्र्यवहार से इसका समाधान नहीं हो सकता। अपने भाषण में उन्होंने कहा कि उनकी सरकार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की शिक्षाओं का अनुसरण कर रही है। मोदी ने कहा, “अटलजी ने ‘इंसानियत’ (मानवता), ‘कश्मीरियत’ (उदार कश्मीरी संस्कृति) और ‘जम्हूरियत’ (लोकतंत्र) का आह्रान किया था। मैंने भी कहा है कि कश्मीर के मसले का समाधान कश्मीर के लोगों को गले लगाकर किया जा सकता है।”

3. प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान का ऐलान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अगले साल होने वाले आम चुनावों से पहले अपने अंतिम स्वतंत्रता दिवस के भाषण में कहा, “प्रधानमंत्री जन आरोग्य अभियान 25 सितंबर से शुरू किया जाएगा, जिससे गरीबों के लिए अच्छी गुणवत्ता व किफायती स्वास्थ्य सेवा सुनिश्चित हो सके। सरकार की पहल का 50 करोड़ भारतीयों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।” इस योजना को दुनिया की सबसे बड़ी सरकारी वित्त पोषित स्वास्थ्य सेवा कार्यक्रम बताया जा रहा है। इसे कार्यक्रम को ‘मोदीकेयर’ भी कहा जा रहा है जिसका मकसद देश में 10 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को लाभान्वित करते हुए हर परिवार को सलाना पांच लाख रुपये का मेडिकल बीमा कवर प्रदान करना है।

4. मुस्लिम महिलाओं को सुरक्षा का भरोसा…

मोदी ने कहा, “तीन तलाक प्रथा मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय है। तीन तलाक ने बहुत सी महिलाओं का जीवन बर्बाद कर दिया है और बहुत सी महिलाएं अभी भी डर में जी रही हैं।”उन्होंने आगे कहा, “मैं मुस्लिम बहनों और बेटियों को भरोसा देता हूं कि उनके अधिकार सुरक्षित होंगे और सरकार उन्हें सुरक्षित करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगी। मेरा भरोसा देता हूं कि मैं उनकी आकांक्षाओं को पूरा करूंगा।” बता दें कि राज्यसभा में मानसून सत्र के अंतिम दिन तीन तलाक विधेयक पर आम सहमति नहीं बन पाने के कारण इसे स्थगित करना पड़ा था।

5. दुष्कर्मियों को सीधे फांसी होगी…

देश के विभिन्न हिस्सों में हुए दुष्कर्म के जघन्य मामलों पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि महिलाओं के प्रति संकीर्ण मानसिकता खत्म होनी चाहिए और सभी को न्याय मिलना चाहिए। यहां लाल किला से अपने स्वतंत्रता दिवस भाषण में मोदी ने कहा, “हमें अपने समाज और देश को दुष्कर्म की घृणास्पद मानसिकता से आजाद कराना है।”उन्होंने कहा, “मध्य प्रदेश और राजस्थान में फास्ट ट्रैक अदालत ने दुष्कर्मियों को फांसी की सजा सुनाई है।”

6. एक नए पथ पर आगे बढ़ा भारत…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार के पास साहसिक निर्णय जैसे किसानों के लिए न्यूतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लेने का साहस था जिससे पिछली सरकार से अलग भारत के एक नए पथ पर आगे बढ़ा। उन्होंने कहा कि 2014 में एनडीए की सरकार बनने के बाद दुनिया में भारत की साख कई मामलों में कई गुना बढ़ गई क्योंकि हमारे पास साहसिक फैसले लेने की समझ है। मोदी ने कहा कि देश को पहले दुनिया की पांच कमजोर अर्थव्यवस्थाओं में गिना जाता था लेकिन आज भारत निवेश के लिए अरबों डॉलर का गंतव्य है। प्रधानमंत्री ने कहा, “वे कहते हैं कि सोता हाथी जाग गया है और उसने चलना शुरू कर दिया है। भारत अगले तीन दशकों तक वैश्विक अर्थव्यवस्था को मार्गदर्शन और गति देने जा रहा है।”

7. भारत का मानव आंतरिक्ष मिशन 2022

मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले से अपने संबोधन में कहा, “अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में हमारा और हमारे वैज्ञानिकों का एक सपना है और मुझे यह घोषणा करने में प्रसन्नता हो रही है कि वर्ष 2022 तक 75वें स्वतंत्रता साल पर हम अंतरिक्ष में एक मानव मिशन भेजने की योजना बना रहे हैं।”

8. सेना में महिलाओं के लिए स्थायी कमीशन

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- ”मैं आज इस मंच से मेरी कुछ बहादुर बेटियों को खुशखबरी देना चाहता हूं। भारत की सशस्त्र सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन के जरिए नियुक्त महिला अधिकारियों को पुरुष समकक्ष अधिकारियों की तरह पारदर्शी प्रक्रिया द्वारा स्थायी कमीशन देने की घोषणा करता हूं।’ बता दें कि वर्तमान में सेना में महिलाएं सिर्फ जज एडवोकेट जनरल और आर्मी एजुकेशन कोर में ही परमानेंट कमीशन की हकदार हैं। अधिकतर महिलाएं सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन के जरिए आती हैं और उनके पास अधिकतम 14 साल का कार्यकाल होता है।

9. मोदी की एक जिद है…

ये देश ना रुकेगा, न झुकेगा
अपने मन में एक लक्ष्य लिए
मंजिल अपनी प्रत्यक्ष लिए,
हम तोड़ रहे हैं जंजीरें
हम बदल रहे हैं तस्वीरें
यह नवयुग है, यह नवभारत है
खुद लिखेंगे अपनी तकदीर
हम बदल रहे हैं तस्वीर।

हम निकल पड़े हैं प्रण करके
अपना तन-मन अर्पण करके
जिद है- एक सूर्य उगाना है
अंबर से ऊंचा जाना है
एक भारत नया बनाना है।