Diwali 2019: महालक्ष्मी पूजन विधि, दिवाली पर क्या करें और शुभ मुहूर्त क्या है?

दिवाली पर विधि विधान से पूजा की जाती है , लेकिन अपने सामर्थ्य अनुसार आप इन आसान पूजन विधि को अपना मां लक्ष्मी को प्रसन्न कर हैं। दिवाली पूजन में मुहूर्त का बहुत महत्व है और दीपों की इस रोशनी से पूरा संसार जगमगा उठता है।

0

Diwali 2019 Puja vidhi Shubh muhurt: हर तरफ दिवाली की धूम है। बाजार से लेकर घर तक जगमगा रहे हैं। दीपावली हिन्दुओं पावन पर्व है। इस दिन न सिर्फ माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है , बल्कि घर के कोने कोने में दीये जलाये जाते हैं। दीप का अर्थ दीपक और आवली का अर्थ पंक्ति से है। इस प्रकार दिपावली का मतलब हुआ दीपों की पंक्ति। दीपों का यह त्योहार अमावस्या के दिन मनाया जाता है। जिस दिन आसमान में अंधेरा छाया रहता है। दिवाली पर विधि विधान से पूजा की जाती है , लेकिन अपने सामर्थ्य अनुसार आप इन आसान पूजन विधि को अपना मां लक्ष्मी को प्रसन्न कर हैं। दिवाली पूजन में मुहूर्त का बहुत महत्व है और दीपों की इस रोशनी से पूरा संसार जगमगा उठता है। दीपावली मनाने के पीछे कई कथाएं प्रचलित है। तो आईये जानते हैं शुभ मुहूर्त, दिवाली में क्या करें और पूजन सामग्री के बारे में ….

दिवाली के दिन क्या करें

  • घर की साफ सफाई करें । प्रवेष द्वार पर घी और सिंदूर से ओम या स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं।
  • सायंकाल खीलें, बतासे, अखरोट,पांच मिठाई, कोई फल पहले मंदिर में दीपक जला कर चढ़ाएं।
  • दीवाली वाले दिन मिट्टी या चांदी की लक्ष्मी जी की मूर्ति खरीदें।
  • एक नया झाड़ू लेकर किचन में रखें ।
  • लक्ष्मी पूजन करें
  • बहियों ,खातों, पुस्तकों,पैन, स्टेशनरी, तराजू ,कंप्यूटर या वो वस्तु जिसे आप रोजगार के लिए प्रयोग करते हैं उनकी पूजा करें।

दीवाली पूजन का शुभ मुहूर्त समय

  • लक्ष्मी पूजा मुहूर्त्त :18:44:04 से 20:14:27 तकअवधि :1 घंटे 30 मिनट
  • प्रदोष काल :17:40:34 से 20:14:27 तक
  • वृषभ काल :18:44:04 से 20:39:54 तक

दिवाली महानिशीथ काल मुहूर्त

  • लक्ष्मी पूजा मुहूर्त:23:39:37 से 24:30:54 तकअवधि :0 घंटे 51 मिनट
  • महानिशीथ काल :23:39:37 से 24:30:54 तक
  • सिंह काल :25:15:33 से 27:33:12 तक

दिवाली शुभ चौघड़िया मुहूर्त

  • अपराह्न मुहूर्त: शुभ :13:28:49 से 14:52:44 तक
  • सायंकाल मुहूर्त: शुभ अमृत चल:17:40:34 से 22:29:05 तक
  • रात्रि मुहूर्त: लाभ:25:41:26 से 27:17:36 तक
  • उषाकाल मुहूर्त: शुभ:28:53:46 से 30:29:57 तक

भगवान राम की घर वापसी

त्रेतायुग में भगवान राम जब लंकापति रावण का वध करके अयोध्या वापस लौटे थे। तब सभी अयोध्यावासियों ने उनके स्वागत की खुशी में घी का दीपक जलाकर दिवाली मनाई थी। यही भारत की पहली दिवाली मानी जाती है। ऐसा माना जाता है कि कार्तिक मास की अमावस्या को भगवान राम अपनी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ घर वापस लौटे थे।

मां लक्ष्मी को ऐसे करें प्रसन्न

  • मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के तरीके बहुत आसान हैं, लेकिन ज्यादतर लोगों को इसकी जानकारी नहीं होती है। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए शास्त्रों में कई उपाय भी दिए गए हैं, जिन्हें करके आसानी से मां की कृपा पाई जा सकती है. लक्ष्मी कृपा पाने के इन्हीं में से कुछ चुनिंदा उपाय जानिए।
  • दीपावली के दिन महालक्ष्मी के महामंत्र ऊँ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद् श्रीं ह्रीं श्रीं ऊँ महालक्ष्मयै नम: का कमलगट्टे की माला से कम से कम 108 बार जाप करेंगे, तो आपके ऊपर मां लक्ष्‍मी की कृपा बनी रहेगी।
  • दीपावली वाले दिन लक्ष्मी पूजन के बाद घर के सभी कमरों में शंख और घंटी बजाना चाहिए। इससे घर की सारी निगेटिविटी दूर हो जाएगी।
  • दीपावली पर महालक्ष्मी के पूजन में पीली कौड़ियां रखें। इससे धन संबंधी सभी परेशानियां दूर होंगी।
  • दीपावली वाले दिन शिवलिंग पर अक्षत यानी चावल चढ़ाएं। ध्यान रहे सभी चावल पूर्ण होने चाहिए।
  • लक्ष्मी पूजन में हल्दी की गांठ जरूरी रखें और पूजा के बाद इसे अपनी तिजोरी में रखें।
  • इस दिन पीपल के पेड़ में जल जरूर दें। इससे शनि के दोष और कालसर्प दोष खत्म हो जाता है।