Diwali 2019 Panchotsav: धनतेरस, रूप चतुर्दशी, दीपावली, गोवर्धन पूजा और भाई दूज की तिथियां व शुभ मुहूर्त

दीवाली के अवसर पर पंचोत्सव मनाने की परंपरा है। किस दिन क्या पर्व होगा और उस दिन क्या छोटे छोटे कार्य व उपाय करने चाहिए, उसका दैनिक विवरण संक्षिप्त रूप में हम दे रहे हैं।

0

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिषाचार्य

Diwali 2019 Panch festival: जैसे नवरात्रि पर नौ दिन, दुर्गा माता के नौ स्वरूपों की आराधना की जाती है, ठीक उसी तरह दीवाली के अवसर पर पंचोत्सव मनाने की परंपरा है। किस दिन क्या पर्व होगा और उस दिन क्या छोटे छोटे कार्य व उपाय करने चाहिए, उसका दैनिक विवरण संक्षिप्त रूप में हम दे रहे हैं।

दिवाली पंचोत्सव शुभ मुहूर्त (Diwali Panchotsav auspicious time)

  • 25 अक्तूबर: शुक्रवार,- गोवत्स द्वादशी , धन त्रयोदशी- सायं 7 बजे से आरंभ, धनवंतरी जयंती
  • 26 अक्तूबर: शनिवार- हनुमान जयंती, धनतेरस सायं-4 बजे तक
  • 27 अक्तूबर: रविवार, रूप चर्तुदशी, नरक चौदश, दीवाली
  • 28 अक्तूबर: सोमवार, सोमवती अमावस, गोवर्धन पूजा, अन्नकूट, विश्वकर्मा दिवस
  • 29 अक्तूबर: मंगलवार,यम द्वितीया- भाई दूज एवं पंजाब में विश्वकर्मा पूजन

25 और 26 अक्तूबर को धनतेरस पर क्या करें ? What to do on Dhanteras on October 25 and 26?

  • 25 तारीख सायं 7 बजे से अगलेे दिन शनिवार की सायं 4 बजे तक खरीदारी कर सकतेे है। वैद्य एवं चिकित्सक धन्वंतरी की पूजा अर्चना कर सकते हैं।
  • धनतेरस का पर्व दीवाली के आगमन की सूचना देता है।
  • प्रातः घर व ऑफिस के प्रवेश द्वार को धोएं और रंगोली बनाएं, वंदनवार, बिजली की झालर लगाएं।
  • घर का सारा कूड़ा करकट, अखबारों की रद्दी, टूटा फूटा सामान, पुरानी बंद इलेक्ट्रॉनिक चीजें बेच दें। जाले साफ करें। नया रंग रोगन करवाएं। आफिस घर साफ करें। अपने शरीर की सफाई करें। तेल उबटन लगाएं। पार्लर जा सकते हैं।
  • पुराने बर्तन बदल के नए लें। चांदी के बर्तन या सोने के जेवर खरीदें। नया वाहन या घर की कोई दीर्घ समय तक प्रयोग की जाने वाली नई चीज लें। खीलें बताशे आज ही खरीदें। धान से बनी सफेद खीलें सुख, समृद्धि व सम्पन्नता का प्रतीक हैं अतः इसे धनतेरस पर ही घर लाएं।
  • इस दिन बाजार से नया बर्तन घर में खाली न लाएं उसमें, मिष्ठान या फल भर के लाएं
  • धनतेरस की रात यदि आपको अपने घर में छिपकली दिख जाए तो समझें पूरा वर्श शुभ रहेगा। इस दिन संयोगवश इसके दर्शन दुर्लभ होते हैं।
  • सायंकाल मुख्य द्वार पर आटे का चौमुखी दीपक बना कर , चावल या गेहूं की ढेरी पर रखें।साथ में जल, रोली ,गुड़ फूल नैवेद्य रखें । इसे आज से 5 दिन हर शाम जलाएं।
  • व्यवसायी अपने बही -खाते, विद्यार्थी पुस्तकों आदि की पूजा करें ।
  • आरोग्य हेतु आज धन्वंतरि दिवस पर जरुरत मंदों को दवाई दान दें ।
  • नई या पुरानी इलेक्ट्रॉनिक आयटम पर नींबू घुमा के वीरान जगह फेंकें या निचोड़ के फ्लश में डाल दें।
  • इस दिन नए कपडे पहनने से पूर्व उन पर हल्दी या केसर के छींटे दें।
  • नई कार या वाहन खरीदने पर उसके बोनट पर कुमकुम व घी के मिश्रण से स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं ,नारियल पर रोली से ओम् बना के वाहन के आगे फोड़े और प्रसाद बाँट दें।
  • पुराना फटा पर्स बदल दें,नया पर्स या बैग खरीदें। इसमें क्रिस्टल,श्री यंत्र,गोमती चक्र,कौड़ी, हल्दी की गांठ, पिरामिड, लाल रंग का कपड़ा,लाल लिफाफे में अपनी इच्छा /विश लिख कर रखें। लाल रेशमी धागे में गांठ लगा के पर्स में रख लें । मनोकामना में विवाह की इच्छा या ऐसा ही कोई रुका कार्य या धन प्राप्ति आदि लिख सकते हैं।
  • मेष,सिंह,बृश्चिक व धनु राशि वाले लाल,पीला, नारंगी या भूरे रंग का पर्स या बैग रखें । बृष,तुला, कर्क वाले सफेद, सिल्वर, गोल्डन , आसमानी । मकर व कुंभ राशि के लोग नीले,काले, ग्रे कलर के, मिथुन तथा कन्या राशि के हरे रंग के पर्स या बैग खरीदें ।
  • आज के दिन किसी को उधार न दें।